लोहे से बना जहाज समुद्र में तैरता है, परन्तु लोहे का टुकड़ा (कील) डूब जाता है, क्यों?

लोहे से बना जहाज समुद्र में तैरता है, परन्तु लोहे का टुकड़ा (कील) डूब जाता है, क्यों?

लोहे से बना जहाज समुद्र में तैरता है, परन्तु लोहे का ठोस टुकड़ा (कील) डूब जाता है, क्यों? सम्बन्धित नियम देते हुए इस कथन की व्याख्या की गई है।

A ship made of iron floats in the sea, but a solid piece of iron (keel) sinks, why? This statement has been explained giving the relevant rules.

लोहे से बना जहाज समुद्र में तैरता है, परन्तु लोहे का टुकड़ा (कील) डूब जाता है, क्यों?

लोहे से बने जहाज का जल पर तैरना-लोहे की कील की बनावट इस प्रकार की होती है कि उसका भार, उसके द्वारा हटाए गए जल के भार से बहुत अधिक होता है । इसी कारण वह जल में डूब जाती है। इसके विपरीत,लोहे का जहाज तैरता रहता है। इसका कारण यह है कि जहाज का ढाँचा अवतल होता है तथा अन्दर से खोखला बनाया जाता है । जैसे ही जहाज समुद्र में प्रवेश करता है, तो उसके द्वारा (उसकी बनावट के कारण) इतना जल हटा दिया जाता है कि उसके द्वारा हटाए गए जल का भार,जहाज (जहाज व उसके समस्त सामान सहित) के कुल भार के बराबर हो जाता है। इसी कारण प्लवन के सिद्धान्त के अनुसार,जहाज तैरता रहता है।

You may also like.